Sale!
In Stock

7 Mukhi Rudraksha

1,599.00

7 मुखी रुद्राक्ष मूल प्रमाणित भूरा मनका पुरुषों और महिलाओं के लिए

  • सात मुखी प्रमाणित रुद्राक्ष
  • गोल आकार और भूरा रंग
  • स्पष्ट और विशिष्ट मुखी
  • एक और सभी द्वारा पहना जा सकता है
SKU: 0007 Category:

Description

किसे पहनना चाहिए सात मुखी

सफल, धन और समृद्धि प्राप्त करने के लिए व्यवसायियों के साथ-साथ सभी क्षेत्रों के पेशेवरों द्वारा सात मुखी रुद्राक्ष पहना जाना चाहिए। इस रुद्राक्ष को पहनने के लिए शनि ग्रह से होने वाले रोगों से पीड़ित लोगों के लिए सलाह दी जाती है। यह रुद्राक्ष एक महान रिलीवर के रूप में कार्य करता है यदि ऊपर वर्णित शनि के प्रमुख या मामूली कष्ट के दौरान पहना जाता है।

सात मुखी रुद्राक्ष के लाभ

  • करियर और व्‍यापार में लाभ पाने के लिए सात मुखी रुद्राक्ष धारण किया जाता है।
  • मुश्किल परिस्थिति में भाग्‍य का साथ पाने हेतु इस रुद्राक्ष को पहन सकते हैं।
  • घर से गरीबी दूर करने और आर्थिक रूप से संपन्‍नता पाने के लिए सात मुखी रुद्राक्ष बहुत लाभकारी होता है।
  • शनि की कुदृष्टि से बचने एवं शनि देव को प्रसन्‍न करना है तो आप सात मुखी रुद्राक्ष पहन सकते हैं।
  • जोड़ों में दर्द और मानसिक तनाव से ग्रस्‍त व्‍यक्‍ति को भी सात मुखी रुद्राक्ष पहनना चाहिए।
  • 7 मुखी रुद्राक्ष पहनने वाले को बहुत सारा धन और समृद्धि प्राप्त होती है।
  • यह नौकरी की संभावनाओं को बढ़ाता है और नौकरी में पदोन्नति को सक्षम बनाता है।
  • यह पहनने वाले को किसी भी प्रकार की मानसिक, शारीरिक और मौद्रिक समस्याओं से बचाता है।
  • यह व्यवसायी के लिए सफलता और धन लाता है।
  • सात मुखी रुद्राक्ष व्यापार, सेवा और करियर जैसे जीवन के सभी क्षेत्रों में धन देता है जिससे समृद्धि और खुशहाली आती है।
  • यह रुद्राक्ष गुड फॉर्च्यून, बढ़ी हुई मुनाफे, वित्तीय सुरक्षा, रचनात्मकता और संवर्धित अंतर्ज्ञान को भी आकर्षित करता है।
    यह प्राचीन वैदिक ग्रंथों के अनुसार, विशेष रूप से गठिया के कारण उत्पन्न मांसपेशियों के दर्द का इलाज और कम करने के लिए उपयोग किया जाता है।

सात मुखी रुद्राक्ष के स्वास्थ्य को लाभ

  • प्राचीन वैदिक ग्रंथों के अनुसार, सात मुखी रुद्राक्ष को नपुंसकता, पैर की बीमारियों, श्वसन विकार और पुरानी बीमारियों जैसे शनि से प्रेरित रोगों के इलाज में बहुत प्रभावी माना जाता है।
  • प्राचीन वैदिक ग्रंथों के अनुसार, 7 मुखी रुद्राक्ष अस्थमा, लकवा, नपुंसकता, पैरों से संबंधित बीमारियों, कमजोरी, पेट दर्द, मिर्गी, मंदता, गर्भपात, महिलाओं में समस्याओं, गठिया, शुक्राणुओं की शुद्धि और प्रवाह के उपचार में बेहद फायदेमंद है। ओजस (दिव्य ऊर्जा), श्वसन संबंधी विकार आदि।