Sale!
In Stock

2 Mukhi Rudraksha

1,599.00

दो मुखी रुद्राक्ष को भगवान शिव और मां पार्वती का रूप कहा जाता है। इस रुद्राक्षण को धारण करने वाले व्‍यक्‍ति की सभी समस्‍याएं खुद ईश्‍वर दूर करते हैं। वैवाहिक सुख की प्राप्‍ति के लिए भी इस रुद्राक्ष को धारण किया जाता है।

  • दो मुखी प्रमाणित ‘रुद्राक्ष ‘।
  • शासक ग्रह ‘चंद्रमा’ है और परमेश्वर पर शासन करना ‘सूर्य और चंद्रमा’ दोनों है।
  • इसे सोने और चांदी दोनों में बनाया जा सकता है।
  • इस रुद्राक्ष का आकार काजू या अर्ध-चंद्रमा है।
  • अम्लता, गैस्ट्रिक समस्या, तनाव और अवसाद के लिए अनुशंसित।
SKU: 0002 Category:

Description

किसे पहनना चाहिए 2 मुखी

एक व्यक्ति जो दोस्तों के साथ अच्छे रिश्तों का पालन करता है और साथ ही परिवार, रिश्तेदारों और सहकर्मियों के साथ-साथ दोस्तों के बड़े दायरे में शांतिपूर्ण रिश्ते के साथ एक स्थिर पारिवारिक जीवन है।

एक व्यक्ति जो अच्छे और उपयुक्त मैच के साथ-साथ सभी जोड़ों के बीच तनावपूर्ण संबंधों के कारण बच्चे को गर्भ धारण करने की समस्या का सामना करने के लिए इच्छुक है।

दो मुखी रुद्राक्ष के लाभ

  • दांपत्‍य जीवन के सुख के लिए इस रुद्राक्ष को धारण किया जाता है।
  • 2 मुखी रुद्राक्ष को धारण करने से घर-परिवार में सुख-शांति बनी रहती है। पारिवारिक सुख के लिए भी इस रुद्राक्ष को पहन सकते हैं।
  • मोटापा, दिल की बीमारी जैसे रोगों से भी बचाने में 2 मुखी रुद्राक्ष सुरक्षा कवच के तौर पर कार्य करता है।
  • भूत-प्रेत से रक्षा एवं ब्रह्म हत्‍या और गऊ हत्‍या के पाप से मुक्‍ति पाने के लिए इस रुद्राक्ष को धारण कर सकते हैं।
  • रुद्राक्ष एकीकरण का प्रतीक है, इसलिए यह पति और पत्नी के बीच के बंधन को मजबूत बनाता है, जिससे उन्हें सच्चे वैवाहिक आनंद का आनंद मिलता है।
  • 2 मुखी रुद्राक्ष उन जोड़ों की भी मदद करता है जो अपने विवाहित जीवन में कठिन समय का सामना कर रहे हैं।
  • यह जीवन साथी की तलाश कर रहे लोगों के लिए आदर्श है।
  • 2 मुखी रुद्राक्ष पहनने से संतानहीन दंपतियों को भी लाभ होता है।
  • यह माता-पिता और बच्चे, दोस्तों और भाई-बहनों के बीच अन्य संबंधों को भी सामंजस्य बिठाता है।
  • यह अपने शासक ग्रह, चंद्रमा के कारण पहनने वाले के जीवन में स्थिरता और शांति लाता है।

2 मुखी रुद्राक्ष के स्वास्थ्य को लाभ

  • इससे पेट, गैस्ट्रिक या किडनी की समस्या वाले लोगों को भी फायदा होता है।
  • प्राचीन हिंदू वैदिक ग्रंथों के अनुसार, एक 2 मुखी रुद्राक्ष नपुंसकता, एकाग्रता की कमी, गुर्दे की विफलता, तनाव, चिंता, अवसाद, नकारात्मक सोच, आंखों की समस्याओं को दूर करता है।
  • मानसिक अराजकता, उन्माद, आंतों के विकार आदि जैसे विभिन्न रोगों के उपचार के लिए उल्लेखनीय रूप से काम करता है।
  • यह किडनी और आंत से संबंधित बीमारियों को ठीक करता है।
  • यह पहनने वाले की प्रजनन क्षमता और यौन स्वास्थ्य में सुधार करता है।
  • सकारात्मकता की वजह से व्यक्ति खुश महसूस करता है जो उसके संपूर्ण स्वास्थ्य को बेहतर बनाता है।